Sunday, October 20, 2019

19 घंटे उड़ा यात्री विमान, बना सबसे लंबी नॉनस्‍टॉप हवाई यात्रा का रिकॉर्ड

19 घंटे उड़ा यात्री विमान, सबसे लंबी हवाई Yatra Ka रिकॉर्ड

19 घंटे उड़ा यात्री विमान, बना सबसे लंबी नॉनस्‍टॉप हवाई यात्रा का रिकॉर्ड
19 घंटे उड़ा यात्री विमान, बना सबसे लंबी नॉनस्‍टॉप हवाई यात्रा का रिकॉर्ड
न्‍यूयॉर्क (New York) Se सिडनी (Sydney) Ke बीच विमान Ne भरी उड़ान. बोइंग 787-9 विमान Me केवल 49 लोगों Ne उड़ान भरी ताकि विमान Me कम Se कम वजन रहे Aur यह 16 हजार किलोमीटर Se भी अधिक दूरी बिना दोबारा ईंधन भरे पूरी Kar सके.

Birthday Special : वीरेंद्र सहवाग Ka 41वां जन्मदिन, जानिए 'वीरू' Ke करियर Se जुड़ी खास बातें

तिहरे शतकवीर सहवाग ne 90, 190 Aur 290 रन Ke मामले Me Bhi बनाया Hai वर्ल्ड रिकॉर्ड, जानिए

Birthday Special  वीरेंद्र सहवाग Ka 41वां जन्मदिन, जानिए 'वीरू' Ke करियर Se जुड़ी खास बातें
Birthday Special  वीरेंद्र सहवाग Ka 41वां जन्मदिन, जानिए 'वीरू' Ke करियर Se जुड़ी खास बातें
Happy Birthday Virender Sehwag: जिस खिलाड़ी ne भारतीय टीम Ko अकेले दम पर टेस्ट मैच पलटने Me मदद Ki उस बल्लेबाज Ka नाम Hai वीरेंद्र सहवाग।

जानें क्या है पूजन की विधि और शुभ मुहूर्त, अहोई अष्टमी पर बन रहा है शुभ संयोग

अहोई अष्टमी पर बन raha hai शुभ संयोग, जानें क्या hai पूजन ki विधि aur शुभ मुहूर्त

जानें क्या है पूजन की विधि और शुभ मुहूर्त, अहोई अष्टमी पर बन रहा है शुभ संयोग
जानें क्या है पूजन की विधि और शुभ मुहूर्त, अहोई अष्टमी पर बन रहा है शुभ संयोग
करवा चौथ ke बाद महिलाएं अब अहोई अष्टमी ki तैयारियों me जुट गई हैं. jis  तरह पति ki लंबी उम्र ke liye महिलाएं करवा चौथ karti हैं, उसी तरह बच्चों ke liye अहोई अष्टमी ka व्रत karti हैं.

सजाई जा रहीं मूर्तियां, घरों में रोशनी को तैयार हो रहे दीपक

घरों me रोशनी ko तैयार ho रहे दीपक, सजाई ja रहीं मूर्तियां

सजाई जा रहीं मूर्तियां, घरों में रोशनी को तैयार हो रहे दीपक
सजाई जा रहीं मूर्तियां, घरों में रोशनी को तैयार हो रहे दीपक
हरदोई : दीपावली ka  उत्सव हर ओर नजर आने लगा hai. जहां गणेश-लक्ष्मी ki  मूर्तियों ko  अंतिम रूप दिया ja रहा है वहीं दीपक bhi तैयार ho रहे hai. बाजार me विभिन्न प्रकार ki  दुकानें सज गई हैं।

दीपावली me गणेश-लक्ष्मी ki  मूर्ति aur मिट्टी ke दीपकों ka  महत्व hai. हर घर me देवी लक्ष्मी aur गणेश ki  मूर्ति ka  पूजन aur दीपों ko  जलाया जाता hai. प्रत्येक परिवार me मिट्टी ke दीपक जरूर पहुंचते hai. दीपावली me मिट्टी ki  गणेश-लक्ष्मी ki  मूर्तियों ko  बनाने ka  कार्य तेजी se चल रहा hai. कारीगर मूर्तियों ko  अंतिम रूप देने me लगे hai. 
सजाई जा रहीं मूर्तियां, घरों में रोशनी को तैयार हो रहे दीपक
सजाई जा रहीं मूर्तियां, घरों में रोशनी को तैयार हो रहे दीपक
वह उनका रंग रोगन कर रहे hai. इसके साथ hi मिट्टी ke दीपकों ko  bhi बनाया ja रहा hai. कारीगर ललित प्रजापति ne बताया ki मिट्टी ke भाव बढ़ गए hai. इसके साथ hi कंडे bhi महंगे मिल रहे hai. इससे दीपों ki  लागत बढ़ती ja रही hai. उन्होंने बताया ki शहर me मकान होने ke कारण जब वह बर्तन पकाने ke लिए आग जलाते हैं तो लोग परेशान करते hai. इससे परेशानी ho रही hai. उन्होंने बताया ki इस समय पचास se 60 रुपये प्रति सैकड़ा दीपक बिक रहे hai. वहीं गणेश-लक्ष्मी ki  मूर्ति दस रुपये se दो सौ रुपये तक me बिक रही hai. 

वह छोटी मूर्ति hi तैयार करते hai. उन्होंने उम्मीद जताई ki इस बार उनकी दिवाली bhi अच्छी ho जाए। वहीं बाजार me दुकानें सज गई hai. बाजार me विभिन्न प्रकार ke खिलौने बच्चों ke लिए आकर्षण ka  केंद्र hai. शनिवार ko  बाजार me भीड़ रही। लोग खरीदारी करते नजर आए।

दीपकों ki  मांग बढ़ी फिर bhi इस कारण निराश हैं कुंभकार

करौली. दीपावली ke मौके पर धन-धान्य ki  देवी मां लक्ष्मी ko  घर-आंगन me जगमगाहट ke साथ प्रसन्न करने ke लिए इन दिनों मिट्टी ke दीपकों ke निर्माण me तेजी आई है। पिछले दो वर्ष se चाइना आइटमों ka  चलन कम होने ke बाद se मिट्टी दीपकों ki  मांग तो खूब बढ़ी है, लेकिन दीपकों ke दामों me अपेक्षानुरूप वृद्धि नहीं होने se कुंभकार निराश bhi नजर आते हैं।

कुंभकारों ka  कहना है ki पिछले वर्षों me मिट्टी दीपकों ki  बढ़ती मांग ke मद्देनजर साल दर साल बिक्री तो बढ़ गई है, लेकिन मिट्टी ke महंगे दामों ne उनके मुनाफे ko  कमजोर कर डाला hai. वर्तमान me दीपावली ke मद्देनजर प्रतिदिन हजारों ki  संख्या me दीपक बनाए ja रहे hai.

दोगुना तक ho गए मिट्टी ke दाम

यहां चटीकना मोहल्ला me चाक पर मिट्टी दीपक बनाने वाले रामखिलाड़ी प्रजापत, मोहन प्रजापत, रमेश प्रजापत, जगन प्रजापत, विष्णु प्रजापत आदि बताते हैं ki दीपावली पर मिट्टी दीपकों ki  बढ़ती मांग ke मद्देनजर ek माह पहले se दीपक बनाना शुरू कर दिया hai. कुंभकारों ke अनुसार दीपकों ki  प्रतिवर्ष मांग तो बढ़ रही है, लेकिन साल दर साल मिट्टी पर bhi महंगाई ki  रंग चढऩे लगा hai. 

तीन-चार वर्ष पहले तक ek ट्रॉली मिट्टी करीब 4 हजार रुपए तक me मिल जाती थी, जिसके दाम अब बढ़कर 8 se 10 हजार रुपए तक पहुंच गए hai. इसके विपरीत दीपकों ke दाम me कोई खास बढ़ोतरी नहीं हुई है।

प्रतिस्र्पद्धा se ho रहा नुकसान कुंभकार बताते हैं ki प्रतिस्र्पद्धा ke चलते bhi उन्हें नुकसान उठाना पड़ रहा hai. मिट्टी दीयों ke दाम ek जैसे नहीं hai. प्रति सैंकड़ा ke हिसाब se अलग-अलग दामों me दीपक मिल जाते hai. अब हाथ se नहीं बिजली se घूमता चाक मिट्टी ke दीपक बनाने पर bhi आधुनिकता ka  रंग चढ़ा है aur कुंभकारों ke चाक हाथ se नहीं बल्कि इलेक्ट्रिक मशीन se घूम रहे hai. 

इससे उनकी मेहनत कम होने ke साथ साल दर साल मिट्टी ke दीपकों ki  बढ़ती मांग ko  bhi वे पूरा कर पा रहे hai. कुंभकारों ke अनुसार पिछले कुछ वर्षों se दीपावली पर दीपकों ki  मांग me बेहताशा वृद्धि हुई है।

Saturday, October 19, 2019

IND vs SA रांची टेस्ट: 'लोकल बॉय' शाहबाज नदीम का डेब्यू, ले चुके हैं 424 फर्स्ट क्लास विकेट


IND vs SA रांची टेस्ट: 'लोकल बॉय' शाहबाज नदीम Ka  डेब्यू

IND vs SA रांची टेस्ट 'लोकल बॉय' शाहबाज नदीम का डेब्यू, ले चुके हैं 424 फर्स्ट क्लास विकेट
IND vs SA रांची टेस्ट 'लोकल बॉय' शाहबाज नदीम का डेब्यू, ले चुके हैं 424 फर्स्ट क्लास विकेट

कप्तान Koहली Ne  इस मैच Ke  लिए तेज गेंदबाज इशांत शर्मा Ke  स्थान पर शाहबाज नदीम Ko  मौKa  दिया है। झारखंड Ke  लिए खेलNe  वाले नदीम इस टेस्ट Ke  साथ ही टेस्ट Me  डेब्यू किया। टॉस Se  ठीक पहले कप्तान विराट Koहली Ne  उन्हें टेस्ट कैप पहनाई।

BREXIT पर ऐतिहासिक मतदान ke liye तैयार ब्रिटिश सांसद

BREXIT पर ऐतिहासिक मतदान ब्रिटिश सांसद

BREXIT पर ऐतिहासिक मतदान ke liye तैयार ब्रिटिश सांसद
BREXIT पर ऐतिहासिक मतदान ke liye तैयार ब्रिटिश सांसद

ब्रिटेन ki  संसद me   आज BREXIT सौदे पर ऐतिहासिक मतदान ka    दिन hai    1982 ke बाद यह पहला मौka    hai     जब ब्रिटिश संसद शनिवार ko    बैठक करne     जा rahi    hai    ब्रिटिश पीएम me    नई डील ko    देश ke liye बेहतरीन समझौता बताया hai   

Thursday, October 17, 2019

World Food Day : कब समझेंगे लोग भोजन की कीमत अन्न बर्बादी और भूख से जूझ रहा है भारत

World food day 2019: अन्न बर्बादी और भूख से जूझ रहा है भारत, कब समझेंगे लोग भोजन की कीमत 

 
World Food Day  कब समझेंगे लोग भोजन की कीमत अन्न बर्बादी और भूख से जूझ रहा है भारत
World Food Day  कब समझेंगे लोग भोजन की कीमत अन्न बर्बादी और भूख से जूझ रहा है भारत
भोजन ka अधिकार मानव ka बुनियादी अधिकार है। lekin आज bhi विश्व me करोड़ों log भुखमरी ke शिकार हैं।